क्या किसी मृतक के फिंगर स्कैनर मोबाइल लॉक खोल सकते हैं

1
1394

सबसे पहली बात मरे हुए लोगो के फिंगर प्रिंट से लॉक को नहीं खोला जा सकता है, क्योंकि आपको पता होना चाहिए की किसी भी व्यक्ति के मृत्यु के बाद उसका शरीर पूरी तरह से सिकुड़ जाता है। ऐसे में अगर एंड्राइड फोन की बात आती है तो यह कहा जा सकता है कि उनके लॉक खोले जा सकते हैं।

अगर किसी व्यक्ति की मरने में 10 से 20 मिनट हुआ हो तो, ऐसे कंडीशन में उसके एंड्रॉयड फोन की फिंगरप्रिंट की मदद से लोगों को खोला जा सकता है। जैसा कि आप सभी को याद होगा कि CID सीरियल में तुरंत मरे हुए लोगों का फिंगरप्रिंट से डिवाइस अनलॉक हो जाता था।

क्या मृत्यु के बाद किसी व्यक्ति के उंगलियों के निशान बदल जाते हैं, और उसके निधन के कितने समय बाद तक पहचान के लिए उन प्रिंटों का उपयोग संभव है?

वास्तव में, नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज की कार्यवाही के 14 जुलाई, 2015 संस्करण में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि, लोगो के मरने के बाद फिंगरप्रिंट पहचान कम विश्वसनीय हो जाती है, क्योंकि प्रिंट के दो सेटों के बीच समय अंतराल बढ़ जाता है, जो बताता है कि किसी व्यक्ति की उंगलियों पर लकीरें वास्तव में किसी व्यक्ति के जीवन के दौरान थोड़ा बदल सकता है।

क्या iphone में मृत व्यक्ति के फिंगरप्रिंट से डिवाइस अनलॉक हो सकता है?

वहीं पर अगर बात आती है iphone की तो iphone में एक ऐसा सेंसर लगा हुआ है। जोकि मृत व्यक्ति के फिंगरप्रिंट से इस डिवाइस का लॉक खोल पाना असंभव है। इस डिवाइस में इस तरह का सेंसर लगाया जाता है कि जिसे वह जीवित और मृत व्यक्ति की बॉडी को डिटेक्ट लेता है।

 

1 COMMENT

Comments are closed.